अभी तक कहा जा रहा था कि सतहों को छूने पर कोरोना संक्रमण तेजी से फैलता है। पर अब अमेरिका के सीडीसी ने साफ किया है कि सतह पर मौजूद कोरोनावायरस उतनी आसानी से संक्रमण नहीं फैला सकता, जितना माना जा रहा था। इस जानकारी से उन लोगों को कुछ राहत मिलेगी, जो सामान लाने के बाद बैग्स को सैनिटाइज करते रहते हैं या बार-बार फर्श, स्लैब जैसी सतहों को साफ करते रहते हैं।

सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन की प्रवक्ता क्रिस्टीन नॉरल्युंड ने कहा कि कोरोनावायरस मुख्य तौर पर एक व्यक्ति को दूसरे के करीबी संपर्क की वजह से सबसे तेजी से फैल रहा है। वर्जीनिया टेक यूनिवर्सिटी में एयरोसॉल साइंटिस्ट डॉ. लिंसे ने कहा कि संक्रमण के लिए सबसे पहले सतह पर पर्याप्त मात्रा में कोरोना होना जरूरी है। इसके बाद किसी दूसरे व्यक्ति के उस सतह को छूने तक वायरस जिंदा रहना जरूरी है।

कोरोना वायरस से संक्रमण फैलाने में योगदान रहता
पर्याप्त मात्रा में वायरस हैं और व्यक्ति छू भी ले तो संक्रमण के लिए कोरोना का उस व्यक्ति की त्वचा पर तब तक जिंदा रहना जरूरी है, जब तक कि वो उससे अपनी नाक, आंख या मुंह को छू नहीं लेता। इसके अलावा भी कई ऐसी बातें हैं, जिनका किसी सतह पर मौजूद कोरोना वायरस से संक्रमण फैलाने में योगदान रहता है।

अभी तक इसी बात का जवाब नहीं मिल पाया है कि किसी एक जगह पर वायरस की संख्या कम से कम और ज्यादा से ज्यादा कितनी होनी चाहिए जो उसके फैलने की दर को प्रभावित कर सकती है।



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
साइंटिस्ट डॉ. लिंसे का मानना है कि संक्रमण के लिए सबसे पहले सतह पर पर्याप्त मात्रा में कोरोना होना जरूरी है।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2XuMbNN

Post a Comment

Previous Post Next Post