वुहान. कोरोनावायरस कहां से आया? इस गुत्थी को सुलझाने के लिए दुनिया और संस्थान चीन के पीछे पड़े हैं।तमाम बिखरी कड़ियों को जोड़ने की कोशिश हो रही हैं और अभी तक सारे क्लूज दो जानवरों- पैंगोलिन और चमगादड़ पर जाकर खत्म हो रहे हैं।

अब तक मिले सबूतों से बहुत हद तक ये बात सिद्ध हो रही है कि चमगादड़ से निकले कोरोना के मूल वायरस ने कुछ ताकत पैंगोलिन से ली और फिर एक नए रूप में विकसित होकर इंसानों में Sars-CoV-2 वायरस बनकर फैल गया।

चीन की स्टडी में फिर पैंगोलिन घेरे में

अपनी कई महीनों से चल रहीरिसर्च स्टडी में खुद चीनके दो प्रमुखवैज्ञानिककांगपेंग झियाओ, जुन्कियोनग झाई इस नतीजेपर पहुंचे हैं कि कोविड-19 महामारी का Sars-CoV-2 वायरस के पनपने में पैंगोलिन और चमगादड़ दोनों की भूमिका है।

जर्नल नेचर में छपी रिपोर्ट के हवाले सेइन वैज्ञानिकों को मिले नए सबूत इशारा कर रहे हैं कि इंसानों तक कोरोनावायरस के पहुंचने में मासूम सा नजर आने वाला पैंगोलिन इंटरमीडिएटहोस्ट यानी बीच की कड़ी हो सकता है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी बीते दिनों चमगादड़ की भूमिका को संदिग्ध बताया था।इस रिसर्च को पढ़ने वाले भारत में बैटमेन के नाम से मशहूर वन्यजीव जीवविज्ञानी रोहित चक्रवर्ती भी कहते हैं कि कहीं न कहीं चमगादड़ और पैंगोलिन कोरोना के नए वायरस की टूटी कड़ियों को जोड़ सकते हैं।

जीन्स लेवल पर मिली 100% समानता

साउथ चाइना एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी के कॉलेज ऑफ वेटरनरी मेडिसिन के शोधकर्ताओं के रिसर्च पेपर में पहली बार अपने दावे के पक्ष में ठोस सबूत दिए हैं। वैज्ञानिकों नेमलयन प्रजाति के पैंगोलिन और 4 विशेष जीन्स पर फोकस करके निष्कर्ष निकाले हैं। उन्हें पैंगोलिन में जो कोरावायरस ( पैंगोलिन-CoV) मिला है उसका अमीनो एसिड इंसानों में फैले वायरस के जेनेटिक मटेरियल यानी आरएनए से 100%, 98.6%, 97.8% और 90.7% समान है।

स्पाइक प्रोटीन से मिला क्लू
मलयन पैंगोलिन में मिले वायरस में कोशिकाओं पर आक्रमण करके उन्हें पकड़ने वाला स्पाइक प्रोटीन मिला है वह ठीक वैसा ही जिसका इस्तेमाल कोरोनावायरस इंसानों में कर रहा है। इसे विज्ञान की भाषा में रिसेप्टर बाइंडिंग डोमेन कहा जाता है।

वायरस की कड़ियों को जोड़ने में जीवों की जीनोम सीक्वेंसिंग यानी जेनेटिक मटेरियल को क्रम से लगाकर उसकी तुलना करना सबसे अहम प्रक्रिया है। इस नई स्टडी में इसी प्रक्रिया का इस्तेमाल करके वैज्ञानिक इस नतीजे पर पहुंचे हैं कि पैंगोलिन-CoV की संरचना इंसान में फैले नएSARS-CoV-2 और चमगादड़ के Sars-CoV RaTG13 नाम के वायरस के समान है।

एक अंतर ने समझ बढ़ाई

अभी तक यही माना जा रहा है कि चमगादड़ के इसी Sars-CoV RaTG13 से ही नया कोरोनावायरस SARS-CoV-2 पैदा हुआ है। केवल एक अंतर मिला है जो स्पाइकया S जीन का है। वैज्ञानिकों ने दो दिन पहले जब इसी अंतर पर फोकस किया तो समझ में आया कि ये कहीं न कहीं एक से दूसरे जानवरके शरीर में पहुंचा और वहां अपने आप को बदलकर एक नए रूप में पैदा हुआ है। इस तरह संभव है कि वायरस चमगादड़ से आया और पैंगोलिन के जरिये इंसानों में फैला।

मलयन पैंगोलिन की प्रमुख भूमिका

वायरस को सोर्स ढूंढ़ने के लिए चीनी वैज्ञानिक यह स्टडी पिछले साल से कर रहे हैं। इसके बारे में फरवरी के महीने में कुछ बातें सामने आई थीं।वैज्ञानिकों कीटीम ने यह स्टडी एक वाइल्ड लाइफ रेस्क्यू सेंटर में चार चीनी पैंगोलिन और 25 मलयन पैंगोलिन पर की। इसमें उनके फेफड़ों से टिश्यूज निकाले गए और उनमें वायरस की मौजूदगी का पता लगाया गया।

इसी क्रम में यह सामने आया कि 25 मलयन पैंगोलिनों में से 17 का आरएनए Sars-CoV-2 जैसे वायरसों के लिए पॉजिटिव है और उनमें धीरे धीरे कोरोना संक्रमण जैसे लक्षण भी सामने आए। इन जानवरों को सांस लेने में तकलीफ होने लगी, वे धीरे धीरे शिथिल होकर पड़ गए और रोने-चिल्लाने लगे। बाद में 17 में से 14 पैंगोलिन मर गए।

मलयन या सुंडा पैंगोलिन बेहद शर्मीला जीव और एक दुर्लभ प्रजाति है। पूरे दक्षिण एशिया में पाया जाने वाला यह पैंगोलिन सिर्फ 5 किलो का होता है। इसके स्कैल के कारण यह शिकारियों और तस्करों के निशाने पर रहता है। मादा अपने बच्चे को पूंछ पर लिए घूमती है। चींटी, दीमक और कीड़े खाने वाले इस जानवर की आंखें बेहद कमजोर लेकिन सूंघने की शक्ति बहुत तेज होती है।

पैंगोलिन और चमगादड़ दोनों एक जैसेनिशाचर
वैज्ञानिकों का यह भी कहना है कि चूंकि पैंगोलिन और चमगादड़ दोनों निशाचर जानवर हैं, दोनों ही कीड़े खाते हैं, और दुनियाभर में लगभग हर जगह फैले हुए हैं तो इसीलिए ये दोनों जानवर साझेदारी में सार्स परिवार के कोरोनावायरस के लिए आदर्श वाहक हैं और सबूत भी इसी ओर संकेत कर रहे हैं।

स्टडी में वैज्ञानिकों ने इस घटनाक्रम को भी स्पष्ट करते हुए लिखा है कि आमतौर पर बीमारी के कुदरती वाहक में उसके गंभीर लक्षण नहीं दिखते हैं, लेकिन उससे यदि बीमारी किसी इंटरमीडिएट होस्ट जानवर में चली जाती है तो वह संक्रमण के क्लीनिकल लक्षण दिखाता है।

पैंगोलिन पर नजर रखें, तस्करी और मांस खानारोकें

इसी कारण वैज्ञानिकों ने अपनी रिसर्च में जोर देकर लिखा है कि पैंगोलिन दुनिया में सबसे ज्यादा तस्करी होने वाला जानवर है। हर देश की तस्करों की ये पहली पसंद है और यही बात दुनिया के लोगों के लिए खतरा भी है क्योंकि ये स्तनपायी चींटीखोर जानवर Sars-CoV-2 जैसे वायरसों का भी वाहक है। ऐसे में अगर इसकी तस्करी और व्यापार नहीं रुकता है तो भविष्य में भी कोरोनावायरस पूरी दुनिया में फैलता रहेगा।

इसी वजह से इस रिसर्च पेपर में दुनियाभर की सरकारों से कहा गया है कि उन्हें पैंगोलिन पर एक व्यस्थित ढंग से लम्बे समय तक निगरानी रखकर इस जानवर के अवैध शिकार, तस्करी और व्यापार पर सख्त प्रतिबंध लगा देने चाहिए। इसके मांस को खाने पर तो पूर्ण प्रतिबंध लगा देने की सिफारिश की गई है।



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
Covid-19 may have originated from recombined bat, pangolin coronaviruses A coronavirus isolated from Malayan pangolins by a team of Chinese scientists showed 100%, 98.6%, 97.8% and 90.7% amino acid identity with Sars-CoV-2 in 4 genes.


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2yCY1gE

Post a Comment

Previous Post Next Post