फोटो भिलाई केपटेल चौक की। यहां से महज 100 मीटर की दूरी पर कलेक्टोरेट परिसर है। यहां से जिम्मेदार अधिकारी रोज गुजरते हैं लेकिन किसी ने चौक पर बनाईगईंतीन जेब्रा क्रॉसिंग पर ध्यान नहीं दिया। साल में डेढ़ लाख लोगों को नियमों का पाठ पढ़ाने वाली ट्रैफिक पुलिस खुद नियमों की अनदेखी कर रही है। चालक कंफ्यूज हैं किस जेब्रा लाइन को स्टॉप लाइन मानकर रेड सिग्नल पर रुकना है? डीएसपी गुरजीत सिंह ने कहा, यातायात व्यवस्था के लिए ट्रैफिक पुलिस के साथ कई अन्य एजेंसी काम करती है। चूक हुई है, जल्द सुधार लेंगे।

सूर्यग्रहण को अपनी हथेली पर ही ले आई छात्रा

फोटो पंजाब के रूपनगर जिले के मोरिंडा की है। शहर में रविवार को सूर्यग्रहण के चलते लोग टीवी चैनलों के पास ही बैठे रहे। वहीं एक छात्रा सूर्यग्रहण को अपनी हथेली पर ही ले आई। छात्रा लवनीत वशिष्ठ ने बताया कि उनकी छत पर लगी शीट से सूर्य की रोशनी नीचे सीढ़ियों पर पड़ रही थी, जिसमें की सूर्यग्रहण की परछाई दिख रही थी और परछाई को उसने हथेली पर ले लिया।

प्रकृति के रंग देखने उमड़े लोग

फोटो पंजाब के बठिंडा की है। रविवार को सूर्य ग्रहण की महत्वपूर्ण खगोलीय घटना को देखने के लिए लागों में उत्साह दिखा। शहर में सुबह 10.20 बजे सूर्य ग्रहण शुरू हुआ। लोगों ने खगोलीय यंत्रों के सहारे सूर्य ग्रहण को देखा। ग्रहण के दौरान मंदिरों के कपाट पूरी तरह से बंद रहे। साल का पहला सूर्यग्रहण रविवार दोपहर 2.02 बजे के बाद समाप्त हुआ।

प्राणायाम और योगाभ्यास से आंखों की रोशनी वापस आ गई

फोटो राजस्थान के हनुमागढ़ जिले के नूआं गांव की है। योग दिवस पर हर किसी ने योग किया लेकिन गांव नूआं की नीमा देवी को योग करते देख आप दांतों तले अंगुली दबा लेंगे।नीमा की उम्र 105 वर्ष है। जिस उम्र में आराम की आवश्यकता होती है उस उम्र में नीमा रोजाना योगाभ्यास करती हैं। उन्होंने बताया कि एक बार उनकी आंखें खराब हो गई थी और डॉक्टरों ने कहा कि उनकी आंखें कभी ठीक नहीं हो सकती। तभी उन्होंने प्राणायाम और योगाभ्यास शुरू किया। उनकी आंखों की रोशनी वापस आ गई।

पानी में 30 घंटे से अधिक समय तक योग कर सकते हैं राजेश्वर

फोटो छत्तीसगढ़ के बिलासपुर की है। अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर आदिबद्री केदारनाथ मंदिर के पंडित राजेश्वर शास्त्री ने पानी में योग क्रियाएं की। महंत 20 वर्षों से पानी में योग क्रियाएं करते हैं। इस बार कोविड-19 के कारण अकेले ही सोम नदी की धारा में योग क्रियाएं कर स्वच्छता का संदेश दिया। उन्होंने बताया पानी में मुक्तापद आसान, पदमासन, शया आसन, विश्राम आसन, धेनु आसन सहिम अनेक योग क्रियाएं कर जीवन को संजीवनी दी जा सकती है। वहपानी में 30 घंटे के अधिक समय तक योग क्रियाएं कर सकते हैं।

रांची में 19 मिमी. बारिश, औसत से 18% अधिक

रविवार को झारखंड की राजधानी रांची में पूरे दिन झमाझम बारिश हुई। मौसम विभाग के मुताबिककुल 19 मिमी. बारिश रिकॉर्ड की गई। 24 घंटे में सबसे अधिक 44 मिमी. बारिश लातेहार में हुई। जून में अब तक 132.8 मिमी. बारिश हो चुकी है। जून में इस समय तक सामान्य बारिश 112.1 मिमी. होती है, यानी अभी औसत से 18% ज्यादा बारिश हो चुकी है। बारिश में एक रिक्शे वाले ने सड़क पर ही रिक्शे की छतरी खोलकर अपने को भीगने से बचाया।

नाव पर दर्जनों बाइक के साथ 100 से ज्यादा सवारी

फोटो बिहार के हाजीपुर की है। कच्ची दरगाह रुस्तमपुर पीपापुल बंद होते ही प्रखंड के नदी घाटों पर प्रशासन के नाक के नीचे नावों पर ओवरलोडिंग का खेल शुरू हो गया। खासकर कच्ची दरगाह रुस्तमपुर घाट और जेठुली घाट पर यह जानलेवा खेल चलरहा है। घाटों पर नाविकों की मनमानी चरम पर है। नाविकों द्वारा नावों पर क्षमता से अधिक लोगों की सवारी व साथ ही सामान भी लादा जाता है। ऐसे में कब बड़ी नाव दुर्घटना हो जाए कोई कह नहीं सकता। रविवार को नावों पर क्षमता से अधिक लोड कर नाव पार किया जा रहा था। लगभग दर्जनों बाइक के साथ 100 से ज्यादा आदमी सवार थे।

कान्ह के गंदे पानी से शिप्रा का रंग काला-हरा-लाल

फोटो मध्यप्रदेश के उज्जैन की है | मोक्षदायिनीशिप्रा नदी में जिम्मेदारों की लापरवाही के कारण एक बार फिर से नदी का पानी प्रदूषित हो गया। कान्ह नदी के केमिकल युक्त पानी को रोकने के लिए त्रिवेणी पर बनाए अस्थाई पुल के टूटने के बाद इंदौर के औद्योगिक क्षेत्र और नालों से आने वाला गंदा पानी मिलने से शिप्रा नदी में बढ़े प्रदूषण के कारण नदी के पानी का रंग ही बदल गया है। पिछले 5-7 दिनों के भीतर नदी में प्रदूषण इतनी तेजी से फैला कि नदी के पानी का रंग काला और हल्का लाल हो चुका है।

10 वर्षों से खराब है रोहुआ-हायाघाट मेन रोड

फोटो बिहार के समस्तीपुर जिले के वरिसनगर की है। यहां की रोहुआ- हायाघाट मुख्य सड़क पर रोहुआ गांव में जमी कीचड़ से आजिज ग्रामीणों ने रविवार को उसमें धनरोपनी की। उन्होंने बताया कि विगत 10 वर्षों से इस जगह पर जलजमाव के साथ कीचड़ सड़क पर लगी रहती है। इस समस्या पर किसी जनप्रतिनिधि व प्रशासन ने आज तक पहल नहीं की।

केवल खाना खाने के लिए नीचे उतरता है भालू

फोटो भोपाल के वन विहार नेशनल पार्क की है। आज से पार्क को खोल दिया जाएगा। डायरेक्टर कमलिका मोहंता ने बताया कि एनटीसीए, केंद्रीय जू अथॉरिटी और वाइल्ड लाइफ मुख्यालय द्वारा जारी गाइडलाइन के मुताबिक ही वन विहार खोला जा रहा है। वन विहार में दो शिफ्ट में एंट्री मिलेगी। पहली शिफ्ट सुबह 6:30 से दोपहर 12 बजे तक होगी जबकि दूसरी शिफ्ट में दोपहर 3 से शाम 6.30 बजे तक प्रवेश दिया जाएगा। गेट नंबर एक की ओर से एंट्री के वक्त सफारी गेट के पास भालू का बाड़ा दिखाई देता है। पर्यटक न होने से भालू ज्यादातर वक्त यूं ही अपनी मचान पर सोता रहता है। यह केवल खाना खाने के लिए नीचे उतरता है।



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
Three zebra crossings at a chowk in Jharkhand; A 105-year-old woman regained her eyesight from yoga in People's Confuse, Rajasthan


from Dainik Bhaskar /local/delhi-ncr/news/three-zebra-crossings-at-a-chowk-in-jharkhand-a-105-year-old-woman-regained-her-eyesight-from-yoga-in-peoples-confuse-rajasthan-127435077.html

Post a Comment

Previous Post Next Post