राजस्थान केझुंझुनूं जिले के जाखल गांव में शनिवार को शहीद जवान अजय कुमार का पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरानशहीद की वीरवधू ने खुद ही सुहाग की निशानियां उतारीं मानो कह रही हो ...ये तेरी जमीं तेरे खून से ही तो सजती संवरती हैं रांझे। शहीद की पत्नी ने पति की देह पर ही चूड़ियां छोड़ दीं।इस दौरान लोगों ने शहीद अमर रहे के जयकारे लगाए। अजय कुमार 17 जून को सियाचीन ग्लेशियर में जाते हुए पैर फिसलने से गिर गए थे।

पति काे कंधे पर बैठाकर महिला काे 7 किमी चलवाया

घटना मध्यप्रदेश केझाबुआ जिले के कल्याणपुरा गांव की है। यहां महिला के साथ अमानवीय घटनासामने आई है। उसे अपने पति को कंधे पर बैठाकर सात किमी पैदल चलवाया गया। महिला पर आरोप है कि एक सप्ताह पहले वह अपने प्रेमी के साथ भाग गई थी। शनिवार काे प्रेमी के परिवार वालाें ने महिला काे उसके पिता काे साैंप दिया और पिता ने ससुराल वालों को। ससुराल वालों ने अपने गांव ले जाते वक्त कल्याणपुरा के बाहर उसे यह सजा सुना दी।

फादर्स डे: पंखा नहीं तो क्या हुआ पापा तो हैं

फोटो राजस्थान के बीकानेर की है। यहांफादर्स-डे की पूर्व संध्या पर यानी शनिवार को पीबीएम हॉस्पिटल के बाहरयह नजारादेखने को मिला।हॉस्पिटल के पास अपने गांव की बस का इंतजार करते हुए जब बच्चे की आंख लग गई तो छांव के साथ उसको गर्मी न लगे इसलिए पापा अपने लाड़ले का पंखा बन गए। नींद में विघ्न ने पड़े इसलिएउन्होंने कपड़े से ही अपने मासूम को हवा करना शुरू कर दिया।

शव एक और निगम कर्मियों ने कब्र खोद दीं दो

राजस्थान के अजमेर में शनिवार को एक महिला की मौत हो गई। इसके बाद अधिकारियों ने नगर निगम कर्मियों को एक कब्र खोदने का निर्देश दिया, लेकिन निगम कर्मियों ने एक कब्र एडवांस में खोद दी।

बाढ़ के 4 माह नाव और 8 महीने बांस की पुलिया ही लाइफलाइन

फोटोखगड़िया-मुंगेर के सीमावर्ती क्षेत्र मानसी और टीकारामपुर की है। यहां करीब 20 हजार की आबादी चचरी पुलिया (लकड़ी का पुल)के भरोसे है। बूढ़ी गंडक नदी पार करने के लिए 2009 से अब तक पुलिया ही पैदल, साइकिल और बाइक के आवागमन का साधन है।

आओ हम सब योग करें और बीमारियों को दूर भगाएं

फोटो मध्यप्रदेश के शाजापुर जिले के सिमरोल जंगल में तालाब किनारे की है। अंतरराष्ट्रीय याेग दिवस की पूर्व संध्यापर यह चिंकारा शायद यही संदेश दे रहा है कि आओ हम सब योग करें और अपने को निरोगी बनाए।यहां चिंकारा अपने कुनबे के सदस्यों कोयोग सिखा रहा है। चिंकारा उस मुद्रा में दिखाई दिया जैसे वह बकासन योग कर रहा हो।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस आज

फोटोमें नजर आ रही 7 साल की बच्ची राजस्थान के बांसवाड़ा जिले की रहने वाली रेहा दोसी हैं, जो तीन साल की उम्र से योग कर रही है और सभी तरह के योगासन में पारंगत है।

बाड़मेर में हजार साल पहले भी था योग

आज अंतरराष्ट्रीय योग दिवस है। राजस्थान केबाड़मेर में 1000 साल पुरानी योग मुद्रा की तस्वीर इस बात का प्रमाण है कि सदियों पहले भी बाड़मेर में योग था। किराड़ू में गुर्जर-प्रतिहार शैली में 11वीं सदी में बने मंदिर में मत्स्यासन की मुद्राइस बात की तस्दीक करतीहै कि यहां पर उस काल में भी स्वास्थ्य और योग को लेकर लोग सजग थे।

योग दिवस से एक दिन पहले तोड़ा अपना ही रिकार्ड

राजस्थान के भीलवाड़ा जिले के 9 वर्षीय योगी अर्हम जेथावत ने 20 दिन पहले एक मिनट में 20 बार नीरालंब चक्रासन करके वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया था। ये रिकॉर्ड उन्होंने खुद योग दिवस के एक दिन पहले एक मिनट में 27 बार नीरालंब चक्रासन करके तोड़ दिया।



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
Wife left bangles on martyr husband's body in Rajasthan, wife walked 7 km after sitting husband on shoulder in Jhabua, Madhya Pradesh


from Dainik Bhaskar /local/delhi-ncr/news/wife-left-bangles-on-martyr-husbands-body-in-rajasthan-wife-walked-7-km-after-sitting-husband-on-shoulder-in-jhabua-madhya-pradesh-127432018.html

Post a Comment

Previous Post Next Post