येहैं ऑस्ट्रेलिया की रहने वाली53 वर्षीय कैरल मेयर। पहली नजर में इनफोटोज को देखकर आप एक पल के लिएविचलित हो सकतेहैं, लेकिन आपको इनफोटोज को इसलिए गौर से देखना चाहिए क्योंकि सितंबर में इनकीप्रदर्शनीअंतरिक्ष में लगाई जाएगी। इन तस्वीरों को पोर्ट्रेट ऑफ ह्यूमैनिटी 2020 कॉन्टेस्ट के लिए चुना गया है, जिसका मकसद पूरे यूनिवर्स कोमानव जाति की ओर से शांति औरएकता का संदेश देना है।

धरती से अनंत की यात्रा करेंगे 200 फोटोज

दुनियाभर के बेस्ट फोटोज की इस कॉन्टेस्ट का आयोजन'पोर्ट्रेट ऑफ ह्यूमैनिटी' ब्रिटिश जर्नल ऑफ फोटोग्राफी के प्रकाशक1854 मीडिया कम्पनीकरातीहै। बीते साल अक्टूबर में इसके नॉमिनेशन शुरू हुए थे जो 21 जनवरी 2020 तक चले। अब इन 200 फोटोजको सितंबर 2020 में धरती के ऊपर स्ट्रैटोस्फियर में एक स्क्रीन के जरिये प्रदर्शित किया जाएगा और फिर बाइनरी अंकों में भी एनकोड करके सुदूर अंतरिक्ष यानी ऑउटर स्पेस में भेजा जाएगा।

बाइनरी कोड में फोटोज एलियन सभ्यता तक पहुंचेंगे

आयोजकों का कहना है कि इन चित्रों को संख्याओं में बदलकर "मानव जाति की ओर से अनंत छोर तक शांति और एकता का संदेश" भेजा जाएगा। यह संदेश एक अनंत यात्रा करता रहेगा, जब तक कि कोई एलियन सभ्यता के लोग इसे पा न लें और डिकोड करके इसे समझ नलें।

फोटो में कैरल की कहानी: स्ट्रेलिया के कैर्न्स में रहने वाली कैरल की जिंदगी उस समय बदल गई थी जब 2000 में घर में आग लग गईहुई और 85 फीसदी तक शरीर जल गया। 2011 में अवॉर्ड विनिंग फोटोग्राफर ब्रिएन कैसी एक स्टोरी के सिलसिले में कैरल से मिले। लम्बे समय तक बातचीत के बाद खबर अखबार में प्रकाशित हुई।
फोटोग्राफर ब्रिएन ने कैरल को अपना आत्मविश्वास फिर पाने की प्रेरणा जगाई। इसके बाद कैरल ने कैर्न्स स्थित घर की साल 2000 की घटना कहानी की शक्ल में दोहराई। कैरल ने फोटोग्राफर ब्रिएन को लगभग पूरा शरीर जलने के बाद के दर्द और उससे उबरने का अनुभव साझा किया और बताया कि उसके बाद उसने दुनिया और हालातों का कैसे सामना किया।
ब्रिएन का कहना है कि उस इंटरव्यू के बाद मैं पूरी तरह से हिल गया था। मैं उनकी कई फोटो लेना चाहता था लेकिन समझ नहीं पा रहा था कि कैरल से कैसे कहूं। फिलहाल 5 साल बाद 2016 कैरल मिलने के लिए राजी हुईं और मैंने उन्हें फोटो खिंचवाने का आइडिया देकर मना लिया।अखबार में छपी उनकी 'मिस मेयर, द स्किन आई एम इन' सीरीज की फोटोज ने कई अवॉर्ड जीते।
ब्रिएन के मुताबिक, फोटोशूट से पहले कैरल काफी नर्वस थीं क्योंकि फोटो में उन जख्म के निशानों को दिखाना था जो 16 साल पहले एक बुरी घटना ने दिए थे। अंतरिक्ष में भेजे जाने के लिए चुनी गई फोटो मेयर के केर्न्स वाले उसी घर पर ली गई थीं, और फोटो शूट कराने के दौरान उसके चेहरे पर एक दबी पीड़ा तो थी, पर आत्मविश्वास उससे ज्यादा था। शुरू में, लेकिन वह अपने शरीर को लेकर बेहद पजेसिव थी और बहुत कुछ उजागर करने से घबरा गई थी।
कुछ फोटोज के बाद कैरल सामान्य हो गईं और कहा, तुम मेरे शरीर के निशान देख सकते हो और उन्हें दुनिया को भी दिखा सकते हो।ब्रिएन कहते हैं, "मैंने सोचा, 'नहीं, यह वही है, जो वास्तव में है। यह एक काले और सफेद रंग में लिपटी जीती जागती खूबसूरत इंसान है। और मैं भी तो वही हूं, और मैंने इसे सीधे इस काम को करना स्वीकार कर लिया।" इस फोटो में कैरल अपने बेटे जैक के साथ हैं जो घटना के समय महज 2 साल का था।
कैरल कहती हैं कि उस घटना में मैं बुरी तरह जल चुकी थी। डॉक्टर्स का कहना था बचने के चांस50 फीसदी ही है। इलाज के दौरान 4 माह बीत चुके खुद का चेहरा देखे हुए। जब मैंने अपना चेहरा शीशे में देखा तो हिल गई क्योंकि यह बुरी तरह बिगड़ चुका था। कई उंगलियां भी जलकर खराब हो चुकी थीं। मेरी उम्र उस समय सिर्फ 33 साल थी और आज जब 20 साल बाद उस घटना के बारे में सोचती हूं तो सिहर जाती हूं।
बर्न सर्वाइवर कैरल कहती हैं, मेरी कहानी ने बहुत लोगों के दिल को छुआ। मुझे जूलियन बर्टन बर्न ट्रस्ट का ब्रांड एम्बेसडर बनाया गया है ताकि मैं अपने जैसे लोगों से मिलूं और उनमें जीने का विश्वास जगाने का काम करूं, खासतौर पर महिलाओं को। फोटोग्राफर ब्रिएन अपनी सफलता पर कहते हैं कि "मैं वास्तव में इसके साथ खुश हूं। मुझे कोई पछतावा नहीं है और मैं यह सब फिर से करूंगा। आप हमेशा एक ऐसी फोटो में कुछ खोजने की कोशिश कर रहे हैं जो सार्थक और अलग हो और शायद, बाकियों से थोड़ा फर्क भी दिखा सके।"


आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
2016 में उतारी गई कैरल की फोटो को 'मिस मेयर, द स्किन आई एम इन', नाम  दिया गया था और अब ये फोटो पोर्ट्रेट ऑफ ह्यूमैनिटी 2020  में शॉर्टलिस्ट की गई है।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2MUwIC0

Post a Comment

Previous Post Next Post