अमेरिका ने चीन पर फिर एक बार निशाना साधा है।विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा कि चीन की कम्युनिस्ट पार्टी (सीसीपी) अपने पड़ोस में ‘दुष्ट’ रवैया अपनाए हुए है। वह अमेरिका और यूरोप के बीचसाइबर कैम्पेन के जरिए गलत प्रचार कर रही है, ताकि यहां की सरकारों को कमजोर किया जा सके। वह विकासशील देशों को अपने कर्ज औरनिर्भरता के बोझ तले दबाना चाहतीहै।

पोम्पियो ने कहा किचीनी फौज दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र भारत के साथ सीमा पर तनाव बढ़ाने में जुटी है। दक्षिण चीन सागर में वह गलत तरीके से अपना क्षेत्र बढ़ा रही है। उन्होंनेकहा कि चीन ने कोरोनावायरस के बारे में झूठ बोला, फिर इसे दुनिया के बाकी हिस्सों में फैलने दिया। उसने अपनी साजिश को छिपाने के लिएविश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) पर दबाव डाला।

चीन ने हमारी नरमीका फायदा उठाया

पोम्पियो शुक्रवार को कोपेनहेगन डेमोक्रेसी समिट 2020 में ‘यूरोप और चीन की चुनौतियां’ विषय पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि पश्चिमी देशों को सालों तक उम्मीद रही कि वे चीन की कम्युनिस्ट सोच में बदलाव लाकर वहां के लोगों के जीवन में सुधार ला सकते हैं,लेकिन चीन की सत्ताधारी पार्टी हमसे अच्छे संबंधों कादिखावा करकेहमारी नरमी का फायदा उठाती रही।

चीन दुनिया में आजादी और तरक्की खत्म करना चाहता है
अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा कि सीसीपी नाटो जैसे संस्थानों केजरिए दुनिया में बरकरार आजादी और उससे आईतरक्की कोखत्म करना चाहती है। वह सिर्फ चीन को फायदा पहुंचाने वाले नियम-कायदेअपनाना चाहती है। पोम्पियो ने कहा कि सीसीपी नेसंयुक्त राष्ट्र में दर्जसंधि को तोड़ते हुएहॉन्गकॉन्गकी आजादी को खत्म करनेका फैसला किया।

चीन सिर्फ अपना फायदा देखता है

उन्होंने कहा किचीन हॉन्गकॉन्ग के मामले में जो कर रहा है वह सिर्फ एक उदाहरण है। वह कई अंतर्राष्ट्रीय संधियों का उल्लंघन कर चुका है। वह मानवाधिकारों का उल्लंघन करते हुए चीन केउइगर मुस्लिमों पर अत्याचार कर रहा है।

भारतीय सैनिकों के शहीद होने पर शोक जताया था
पोम्पियो ने एक दिन पहले ही ट्वीट करके लद्दाख कीगलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ झड़प में20 भारतीय सैनिकों के शहीद होने पर शोक जताया था। उन्होंने लिखा था, ‘‘हम चीन के साथ हुए हालिया विवाद में भारतीय सैनिकों के शहीद होने पर संवेदनाएं जतातेहैं। हम सैनिकों को हमेशा याद रखेंगे, जिनके परिवार, करीबी और प्रियजन शोक में डूबे हैं।’’

नेपाल-चीन के बीच हुई वर्चुअल मीटिंग
नेपाल और चीन की कम्युनिस्ट पार्टी ने शुक्रवार को वर्चुअल मीटिंग की। इसमें मौजूदा राजनीतिक हालात और कोरोनावायरस महामारी पर चर्चा हुई। नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी (एनसीपी) के अध्यक्ष पुष्प कमल दहल और उप-प्रधानमंत्री ईशोर पोखरेल समेत अन्य वरिष्ठ नेता इसमें शामिल हुए।



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
माइक पोम्पियो ने एक दिन पहले ही ट्वीट करके गलवान घाटी में शहीद हुए 20 भारतीय फौजियों को श्रद्धांजलि दी थी। -फाइल फोटो


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3fF9snz

Post a Comment

Previous Post Next Post