कोरोनावायरस के संक्रमण का अगला खतरा जानवरों से है। अगर इंसानों से वायरस को खत्म कर दिया गया तो भी महामारी की दूसरी लहर का कारण जानवर बन सकते हैं। इनमें कोरोनावायरस बड़ी संख्या में मिल सकते हैं।

यह दावा यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन की रिसर्च रिपोर्ट में किया गया है। लेंसेट जर्नल में प्रकाशित शोध के मुताबिक, कोरोना महामारी को रोकने के लिए दुनियाभर में जानवरों की आबादी पर नजर रखने की जरूरत है।

इंसानों के पास रहने वाले जानवरों में संक्रमण का खतरा
शोधकर्ताओं का दावा है कि इंसानों के पास रहने वाले जानवरों में अगर वायरस पहुंचा और ऐसे मामले बढ़े तो महामारी की दूसरी लहर आ सकती है। फिलहाल किस जानवर में संक्रमण का खतरा अधिक है, इस पर और अधिक शोध किए जाने की जरूरत है।

जानवरों से इंसान और इंसान से जानवरों में संक्रमण के प्रमाण मिले
शोधकर्ता प्रोफेसर जॉन सेंटिनी कहती हैं कि ऐसे प्रमाण मिले हैं किजानवरों में इंसान से कोरोनावायरस पहुंच सकता है और वापस इनसे इंसानों में कोरोना फैल सकता है। संक्रमण का रिस्क कितना है, अभी यह नहीं बता सकते क्योंकि इस पॉइंट पर रिसर्च नहीं की गई है।

इंसान और जानवर दोनों को बचाने की रणनीति बनाने की जरूरत
प्रोफेसर सेंटिनी कहतीहैं, हमें बचाव की ऐसी रणनीति बनाने की जरूरत है, जिससे इंसानों के साथ जानवरों को भी बचाया जा सके। कोविड-19 की शुरुआत चीन में हुई थी, जिसमें वायरस का वाहक चमगादड़ को बताया गया था। चमगादड़ से किसी दूसरे जानवर में कोरोना पहुंचा और फिर इंसान में यह फैला।

कई तरह के जानवरों में फैलने का खतरा

प्रोफेसर सेंटनी के मुताबिक, जिस तरह महामारी बढ़ रही है, ऐसे में जानवरों में कोरोना का एक जखीरा पनपने का खतरा अधिक है। अगर ऐसा होता है तो 2002 की महामारी के मुकाबले इंसानों में अधिक संक्रमण फैलेगा। कोरोना का मॉडल और लैब स्टडी इसी ओर इशारा करती है और बताती हैं कि यह कई तरह के जानवरों में फैल सकता है।

चुनौतीपूर्ण होगा इसे रोकना
शोधकर्ताओं का कहना है कि अगर यह जानवरों में पहुंचा तो इसे रोकना एक चुनौती साबित होगाक्योंकि यह प्रजाति से दूसरे में नैचुरली फैलेगा। परेशानी बढ़ने का एक कारण ये भी है कि इनमें पाए जाने वाले कोरोना का जीनोम भी इंसान में फैले वायरस का होगा।

हाल ही में नीदरलैंड्स में नेवले जैसे दिखने वाले मिंक में कोरोना का संक्रमण फैला था।

जानवरों में कोरोना के सबसे चर्चित मामले

  • 5 मार्च को हॉन्गकॉन्ग के दो पालतू कुत्तों में इंसानों से कोरोनावायरस संक्रमण की पुष्टि हुई। लेकिन, खास बात है कि उनमें वायरस से लड़ने के लिए एंटीबॉडी भी बनीं। इनमें संक्रमण इन्हीं के आसपास के लोगों से ही फैला। यह दावा हॉन्गकॉन्ग और ऑस्ट्रेलिया के शोधकर्ताओं ने किया था।
  • 5 अप्रैल को न्यूयॉर्क सिटी के ब्रॉन्क्स चिड़ियाघर में 4 साल की बाघिन भी कोरोना पॉजिटिव पाई गई थी।22 अप्रैल को यहां संक्रमण का दायरा बढ़ा और 4 बाघऔर 3 शेर कोरोना पॉजिटिव पाए गए।
  • 22 अप्रैल में न्यूयॉर्क की दो पालतू बिल्लियां कोरोनावायरस से संक्रमित मिली। सेंटर्स फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) के मुताबिक, बिल्लियों को सांस लेनेमें तकलीफ हो रही थी।
  • हाल ही में नीदरलैंडस में नेवले जैसे दिखने वाले मिंक से इंसानों में कोरोना संक्रमण का पहला मामला सामने आया। फार्म इंडस्ट्री के तहत बड़े पैमाने परमिंक को पाला जाता है। फार्म में जहां जानवरों को पालकर उनकी छाल और बालों काव्यापार किया जाता है।


आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
If the virus infection is eliminated in humans, the risk of second wave of corona from animals, the number of viruses may be higher


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/30Yyryd

Post a Comment

Previous Post Next Post