बच्चों का यू-ट्यूब चैनल कोकोमेलन सुर्खियों में है। इसके वीडियो को अब तक 72 अरब से ज्यादा बार देखा गया है। अमेरिका में यह किसी भी कैटेगरी में सबसे ज्यादा देखे जाने वाला यू-ट्यूब चैनल है। पूरी दुनिया में भी यह नंबर-2 पर है। वीडियो व्यूज के हिसाब से केवल भारत का टी-सीरीज इससे आगे है। ‘कोकोमेलन- नर्सरी राइम्स’ को हाल ही में लंदन की मूनबग नाम की कंपनी ने खरीदा है।

ब्लूमबर्ग के अनुसार कोकोमेलन एक अरब डॉलर का यू-ट्यूब बिजनेस (मर्चेंडाइज और दूसरे बिजनेस भी शामिल)बन सकता है। ऐसा करने वाला यह दुनिया का पहला यू-ट्यूब चैनल होगा। सोशल मीडिया डेटा विश्लेषण करने वाली वेबसाइट सोशल ब्लेड के अनुसार पिछले 30 दिनों में ही कोकोमेलन पर 3.31 अरब व्यू आए हैं।

चैनल को 55 वर्षीय जे जियॉन चलाते थे। जियॉन दक्षिण कोरिया के हैं, लेकिन 1990 दशक के मध्य में अमेरिका आए थे। जियॉन और उनकी पत्नी बच्चों की किताबें लिखती थीं। शुरुआत में दोनों ने दो बेटों के लिए वीडियो बनाया। दोस्तों ने देखकर इन्हें यू-ट्यूब पर अपलोड करनेकी सलाह दी।

कोकोमेलन चैनल से जुड़ी 2 खास बातें

  • सिर्फ पत्नी के साथ चलाते रहे चैनल

हर साल करीब 99 लाख डॉलर से लेकर 15.8 करोड़ डॉलर कमाने वाले कोकोमेलन चैनल को जे जियॉन करीब 10 सालों तक सिर्फ अपनी पत्नी के साथ ही चलाते रहे। चैनल का काम बहुत ज्यादा बढ़ जाने के बाद करीब 20 लोगों की टीम रखी।

  • पड़ोसी भी नहीं जानते ये लोग क्या करते हैं

जे जियॉन के पड़ोसी भी नहीं जानते हैं कि वे कौन सा चैनल चलाते हैं या कोकोमेलन इनका यू-ट्यूब चैनल है। वर्षों तक ये इंवेस्टर, स्पॉन्सर्स और दूसरी भाषा में इनके कार्टून को ट्रांसलेट करने की मांग ठुकराते रहे हैं। इस वर्ष इन्होंने अब मर्चेंडाइज को मंजूरी दी है। हाल ही में जीवन का पहला इंटरव्यू दिया। कोकोमेलन सिर्फ भारतीय चैनल टी-सीरीज से व्यू के मामले में पीछे है, लेकिन टी-सीरीज ने जहां अब तक 14.5 हजार से ज्यादा वीडियो पोस्ट किए हैं वहीं कोकोमेलन ने अब तक मात्र 553 वीडियो पोस्ट किए हैं।



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
चैनल को 55 वर्षीय जे जियॉन चलाते थे। जियॉन दक्षिण कोरिया के हैं, लेकिन 1990 दशक के मध्य में अमेरिका आए थे।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3420sGw

Post a Comment

Previous Post Next Post