(विमल कुमार). लेग स्पिनर अमित मिश्रा कई बार टीम इंडिया से अंदर-बाहर होते रहे हैं। उन्होंने टीम की ओर से आखिरी मुकाबला 2017 में इंग्लैंड के खिलाफ खेला था। 37 साल के अमित को अभी भी टीम में वापसी की उम्मीद है। अमित ने 2003 में डेब्यू किया था। दिल्ली कैपिटल्स के अमित ने कहा कि वे आईपीएल के सबसे सफल भारतीय गेंदबाज हैं। लेकिन कोई चर्चा नहीं करता, जबकि कुछ युवा एक सीजन अच्छा खेलकर टीम इंडिया में जगह बना लेते हैं। उनसे बातचीत के कुछ अंश...

सवाल: आप लीग में दूसरे सबसे कामयाब गेंदबाज हैं, पर आपको वो श्रेय नहीं मिल पाता?
अमित: आप पहले शख्स हैं, जिन्होंने मुझे इस तरह बोला है। इससे पहले कभी किसी ने मेरा परिचय आईपीएल में भारत के सबसे कामयाब गेंदबाज के तौर पर नहीं किया। अगर मुझे भी ज्यादा मौके मिलते तो विकेट की संख्या ज्यादा होती।

सवाल: आप जिस सम्मान के हकदार थे, वो नहीं मिला, क्या इस बात पर मायूसी होती है?
अमित: बिल्कुल। मैं 2 साल से आईपीएल में अच्छा खेल रहा हूं। इस दौरान भारतीय टीम से बाहर रहा हूं, लेकिन कोई चर्चा नहीं करता। कई बार युवा खिलाड़ी आईपीएल के एक सीजन में अच्छा खेल कर टीम इंडिया में आ जाता है। पिछले दो दशक से खेलने के बाद भी मुझे हर बार खुद को साबित करने की जरूरत पड़ती है।

सवाल: क्या आपको लगता है कि टीम इंडिया में वापसी आपके लिए मुमकिन है?
अमित: बिल्कुल है और इसलिए मैं खेल रहा हूं। मैं सिर्फ आईपीएल के लिए क्रिकेट खेलने वाला गेंदबाज नहीं हूं।

सवाल: वापसी कितनी मुश्किल होगी?
अमित: पहले हम हमेशा व्यस्त रहते थे। बहुत क्रिकेट होता था। अब वापसी आसान नहीं होगी। दोगुनी मशक्कत करनी होगी।

सवाल: आईपीएल में हैट्रिक और टीम इंडिया में वापसी, दोनों में आसान क्या रहा?
अमित: भारतीय टीम में वापसी मुश्किल रही। आईपीएल में अच्छा खेल दिखाने के बावजूद, हरियाणा के लिए रणजी ट्रॉफी में कप्तानी की अतिरिक्त जिम्मेदारी निभाने के बावजूद टीम इंडिया में वापसी नहीं हो पाई है। आईपीएल में हैट्रिक लेना आपके हाथ में है और यही दोनों में फर्क है।

सवाल: आपको कभी ऐसी निराशा हुई कि खेल छोड़ने का मन बना लिया हो?
अमित: बिलकुल हुई है, लेकिन हर बार मैंने ये सोचा कि अगर मैं छोड़ दूंगा तो फायदा मेरे विरोधियों का होगा। आपको नकारात्मक सोच से बचाने के लिए आपके साथ बहुत कम लोग खड़े होते हैं और ऐसे में मैं खुद को मोटिवेट करता हूं।

सवाल: टी-20 में तो लेग स्पिनर का जलवा है, लेकिन टेस्ट रैंकिंग में टॉप-10 में एक भी लेग स्पिनर नहीं है, ऐसा क्यों?
अमित: मेहनत की कमी के चलते ऐसा है। मुझे अभी भी याद है कि कुंबले और वॉर्न जैसे खिलाड़ी कितनी मेहनत किया करते थे। एक बार सचिन तेंदुलकर ने कहा था कि विदेशी दौरे की तैयारी महीनों पहले शुरू कर देनी चाहिए। तभी आप वहां सफल हो सकते हैं।

अमित ने आईपीएल में रिकॉर्ड 3 हैट्रिक ली

अमित ने भारत के लिए 22 टेस्ट, 36 वनडे, 10 टी-20 खेले हैं। उनके नाम क्रमश: 76, 64, 16 विकेट दर्ज हैं। 5 मैचों की वनडे सीरीज में सबसे ज्यादा 18 विकेट लेने का रिकॉर्ड उन्हीं के नाम है। 147 आईपीएल मैचों में 157 विकेट लेकर टूर्नामेंट के सबसे सफल भारतीय हैं। आईपीएल में सबसे ज्यादा 3 हैट्रिक लेने का रिकॉर्ड भी है।



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
अमित ने भारत के लिए 22 टेस्ट, 36 वनडे, 10 टी20 खेले हैं। इसमें उन्होंने 76, 64, 16 विकेट लिए हैं। 5 मैचों की वनडे सीरीज में सबसे ज्यादा 18 विकेट लेने का रिकॉर्ड उन्हीं के नाम है। -फाइल फोटो


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/31L1TGK

Post a Comment

Previous Post Next Post