इतनी बड़ी दुनिया में कोई ऐसी जगह होगी, जहां औरतों को डर न लगता हो। यूएन ने कुछ साल पहले एक स्टडी की थी और दुनिया के उन देशों की लिस्ट बनाई थी, जहां की सड़कें और सार्वजनिक जगहें औरतों के लिए सबसे ज्यादा खतरनाक हैं।

हम औरतों को कतई आश्चर्य नहीं हुआ ये पढ़कर कि भारत को उस सूची में कोई सम्मानजनक जगह नहीं मिली थी। यहां की सड़कों और सार्वजनिक जगहों पर हर दूसरे मिनट किसी-न-किसी लड़की के साथ छेड़छाड़ हो रही थी।

अभी दो दिन पहले एक लड़की ने ट्विटर पर अपना एक अनुभव लिखा है। उसे दौड़ने और साइकिल चलाने का शौक है। लेकिन कभी ऐसा नहीं हुआ कि वो पैदल या साइकिल लेकर सड़क पर निकली हो और उसे कोई बुरा अनुभव न हुआ हो।

कभी कोई छाती पर हाथ मारकर जाता है तो कोई बीच सड़क अपनी पैंट की जिप खोलकर खड़ा हो जाता है। कोई लगातार पीछा करता है तो कोई बगल से अश्लील टिप्पणी करके गुजर जाता है। उसने हर अलग दिन, हर अलग वक्त पर जाकर देख लिया। कहानी नहीं बदलती,न उसका डर, न गुस्सा, न तकलीफ।

इन बातों का नतीजा ये कि सड़कें औरतों के लिए बहुत खतरनाक हैं। सड़क पर डर लगे तो औरत घर को भागती है। लेकिन घरों का क्या है, चलिए थोड़ा अपने घरों की भी थोड़ी पड़ताल कर लेते हैं।मेरी पिछली कॉलोनी में बगल में एक सुंदर सा घर था। घर में एक सुंदर सी औरत रहती थी। वो पांच महीने प्रेग्नेंट थी। उस घर से अकसर आदमी की चीखने और औरत के रोने की आवाज आती।

एक बार मैंने किचन की खिड़की से देखा, आदमी ने उसकी चोटी पकड़कर उसका सिर दीवार पर दे मारा। एक बार पुलिस भी आई थी, लेकिन घरेलू मामला कहकर, आदमी को बाबाजी की तरह ज्ञान देकर, रूह अफजा पीकर चलती बनी। उस घर से औरत के रोने की आवाजें आनी बंद नहीं हुईं।

लॉकडाउन के दिनों में सारे बड़े अखबारों में एक खबर छपी थी। 25 मार्च से लेकर 31 मई के बीच 1477 महिलाओं ने घरेलू हिंसा की शिकायत दर्ज की। इतने कम समय के भीतर घरेलू हिंसा के इतने केस पिछले 10 सालों में भी नहीं आए थे।

अगर 1477 सुनने भर से आपका दिल बैठा जा रहा है तो नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे की रिपोर्ट भी पढ़ लें, जो कहती है कि घरेलू हिंसा की शिकार 86 फीसदी औरतें कभी हिंसा की रिपोर्ट नहीं करतीं, न पुलिस के पास जाती हैं और न ही मदद मांगती हैं। हिंसा की रिपोर्ट करने और मदद मांगने वाली औरतों का प्रतिशत सिर्फ 14 है और उनमें से भी सिर्फ 7 फीसदी औरतें पुलिस और न्यायालय तक पहुंच पाती हैं।

यानी हमारे महान देश के महान घरों में वास्तव में रोज मर्द के जूते खा रही औरतों की संख्या उससे कहीं ज्यादा है, जितनी नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो की फाइलों में दर्ज है। एनसीआरबी की रिपोर्ट कहती है कि भारत में हर तीसरे मिनट एक औरत अपने घर में पिटती है।

मुंबई हाईकोर्ट की उस नामी महिला वकील की तरह, जो महीने में चार-पांच बार ढेर सारा मेकअप लगाकर कोर्ट जाती थी। चेहरे पर फाउंडेशन की मोटी पर्त और आंखों के नीचे ढेर सारा कंसीलर। कोई कुछ कहता नहीं था, लेकिन जब वो नजरें चुराकर बात करती और हर आधे घंटे में आईने में अपना मेकअप चेक करती तो साथ की वकील औरतें समझ जाती थीं पिछली रात की कहानी। पिछली रात वो फिर पिटी थी अपने पति से।

पिटी तो प्रीती सिंह भी थी अपने बॉयफ्रेंड कबीर सिंह से, जिस पर हॉल में खूब तालियां बजी थीं। चार दिन बाद फिल्म के डायरेक्टर संदीप रेड्डी वांगा ने एक इंटरव्यू में कहा कि "वो प्यार ही क्या, जिसमें थप्पड़ मारने की आजादी न हो। बकौल वांगा मर्द की पिटाई भी उसका प्यार ही है।"

आदमी जितना ज्यादा प्यार करता है, औरत उतना ज्यादा मेकअप लगाती है ताकि प्यार की निशानियों को छिपा सके। घर में आए मेहमानों का मुस्कुराकर स्वागत करती है, सबसे झूठ बोलती है, रसोई में छिपकर रोती है क्योंकि उसे बचपन से यही सिखाया गया है कि बोलने में तुम्हारी ही बदनामी है। हिंसा मर्द करता है और बदनामी औरत की होती है। रेप भी मर्द करता है, लेकिन चरित्र खराब औरत का होता है।

बीच सड़क पैंट खोलकर खड़ा आदमी होता है, डर औरत को लगता है। कपड़े मर्द उतारता है, अपना मुंह औरत छिपाती फिरती है। बेशर्मी मर्द करता है, उस बेशर्मी पर शर्मिंदा औरतें होती हैं। छेड़खानी मर्द करता है, घर में बंद औरतों को किया जाता है। नंगा पुरुष समाज है और औरतों के कपड़ों पर जांच आयोग बिठा रखा है। बलात्कारी मर्द है और बलात्कार से बचने का पाठ औरतों को सिखाया जाता है।

थॉमसन रॉयटर्स फाउंडेशन ने अपने सर्वे में यूं ही नहीं कहा था भारत को औरतों के लिए दुनिया का सबसे खतरनाक देश। क्योंकि, आपके देश में हम औरतों को कहीं भी सुरक्षा और सुकून का एक कोना नसीब नहीं है। सड़क पर जाएं तो छेड़खानी और बलात्कार होगा, घर में रहें तो हमें पीटा जाएगा। पलटकर जवाब देंगे तो बेशर्म और मुंहफट कहलाएंगे, डरना बंद कर देंगे तो चरित्रहीन।

मेरी दादी कहती थी कि लेखपाल शुक्ला की बीवी इसलिए पिटती है क्योंकि 32 गज की उसकी जबान चलती है। वो पलटकर जवाब देती है। जब मर्द को गुस्सा आए तो चुप हो जाना चाहिए। मर्द से औरत की कोई बराबरी नहीं। फिर हर बार अंत में उनका एक ही ब्रम्ह वाक्य होता था,अपना ही आदमी है। पीटता है तो क्या हुआ, प्यार भी तो करता है।

वही कबीर सिंह की तरह। वो लड़की को पीटता है तो क्या हुआ, प्यार भी तो करता है। लेकिन, कभी सोचा है कि इस प्यार के बदले में किसी दिन औरतें भी पलटकर प्यार का जवाब प्यार से देने लगीं तो क्या होगा।

बात बराबरी की ये खबरें भी आप पढ़ सकते हैं :

1. बात बराबरी की:सिर्फ लड़की की इज्जत उसके शरीर में होती है, लड़के की इज्जत का शरीर से कोई लेना-देना नहीं?

2. बॉलीवुड की औरतें नशे में डूबी हैं, सिर्फ वही हैं जो ड्रग्स लेती हैं, लड़के सब संस्कारी हैं, लड़के दूध में हॉरलिक्स डालकर पी रहे हैं

3. जब-जब विराट का खेल खराब हुआ, ट्रोलर्स ने अनुष्का का खेल खराब करने में कसर नहीं छोड़ी, याद नहीं कि कभी विराट की जीत का सेहरा अनुष्का के सिर बांधा हो

4. कितनी अलग होती हैं रातें, औरतों के लिए और पुरुषों के लिए, रात मतलब अंधेरा और कैसे अलग हैं दोनों के लिए अंधेरों के मायने



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
Women Violence, Women Equality, Women Violence Crime, Women studies, Women Violence stories


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2Fhhw1x

Post a Comment

Previous Post Next Post